Monday, February 25, 2008

చాహుంగ మై తుజే

चाहूंगा मैं तुजे सांज सवेरे,
फ़िर भी कभी अब नाम को तेरे
आवाज मैं ना दूंगा,
आवाज मैं ना दूंगा

देख मुजे सब हैं पता,
सुनता हैं तू मन की सदा
मितवा,............ मेरे यार,
तुज को बार बार आवाज मैं ना दूंगा

दर्द भी तू, चैन भी तू,
दरस भी तू, नैन भी तू
मितवा,............... मेरे यार,
.तुज को बार बार आवाज मैं ना दूंगा

1 comment:

Srini said...

Thanks for posting this song. This song haunts me, very riveting. I can understand many words, but some not sure. Would any kind soul explain the meaning little more?

Thanks
Srini